CBSE पेपर लीक: हो सकता है परीक्षा की तारीख का ऐलान!

0
29

नई दिल्ली: सीबीएसई पेपर लीक से नाराज छात्रों ने शुक्रवार (30 मार्च) को प्रीत विहार स्थित सीबीएसई मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया और मुख्य सड़क को जाम कर दिया. नाराज छात्रों की मांग है कि सभी विषयों की परीक्षा फिर से ली जाए, न कि सिर्फ उन विषयों के जिनके पर्चे लीक हुए थे. CBSE पेपर लीक मामले में आज परीक्षा की तारीख का एलान हो सकता है.

वहीं दूसरी ओर बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक होने और दोबारा परीक्षा कराए जाने की घोषणा से छात्रों के निशाने पर आईं सीबीएसई प्रमुख अनीता करवाल ने बीते 29 मार्च को कहा कि दो विषयों की परीक्षा दोबारा कराने का निर्णय छात्रों के हित में है और परीक्षाओं की तिथियों की घोषणा शीघ्र की जाएगी. सीबीएसई प्रमुख का यह बयान बीते 28 मार्च को परिपत्र जारी होने के बाद आया है. इसमें कहा गया था कि छात्रों को 10वीं की गणित की तथा 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा दोबारा देनी होगी.

दिल्ली पुलिस की जांच में सीबीएसई की 10वीं की गणित व 12वीं की अर्थशास्त्र की परीक्षा लीक मामले में बड़ा खुलासा सामने आया है. दोनों ही पेपर एक दिन पहले ही लीक हो गए थे और छात्रों व ट्यूटर के वाट्सऐप पर थे. पुलिस अब तक 25 लोगों से पूछताछ के अलावा दिल्ली और एनसीआर में करीब 10 से ज्यादा जगहों पर छापेमारी कर चुकी है.

जानकारी के अनुसार सीबीएसई की परीक्षा प्रभारी से पुलिस ने चार घंटों तक पूछताछ की है. जानकारी यह भी आ रही है कि करीब 1000 छात्रों तक पेपर पहुंचा है. विशेष पुलिस आयुक्त आरपी उपाध्याय ने कहा कि हम पेपर लीक की ट्रेल को खोजने की कोशिश कर रहे हैं. सीबीएसई ने अपनी शिकायत में राजेंद्र नगर के कोचिंग संचालक विक्की का नाम लिया है. उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की गई है.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने सीबीएसई अध्यक्ष अनिता करवार समेत अन्य अधिकारियों के साथ बृहस्पतिवार को एक घंटे बैठक में परीक्षा पत्र तैयार होने और उन्हें सेंटर तक पहुंचने की रिपोर्ट ली. हालांकि मंत्रालय सीबीएसई अध्यक्ष के कामकाज से नाखुश है, क्योंकि बोर्ड ने स्वयं 5 को मार्च को छात्रों को अलर्ट करते हुए फर्जी वेबसाइटों से बचने की सलाह दी थी. इसके अलावा वाट्सऐप पर पेपर लीक का फुटेज आने के बाद सेंटरों में परीक्षा पत्र की सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए.

जावडेकर ने सीबीएसई पेपर लीक को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए आश्वस्त किया कि इसके दोषी बख्शे नहीं जाएंगे. उन्हें इसकी वजह से प्रभावित होने वाले छात्रों और उनके अभिभावकों के साथ सहानुभूति है. एक संवेदनशील अभिभावक होने के नाते वे बीती रात सो नहीं पाए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here