उत्तराखंड: पिथौरागढ़ जिले में बादल फटने के बाद मकान ढहने से 5 महिलाओं की मौत

0

पिथौरागढ़: उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में धारचूला क्षेत्र के एक गांव में रविवार देर रात बादल फटने की घटना हुई थी. बादल फटने के बाद भारी बारिश के कारण तीन मकान ढहने से तीन नाबालिग बहनों समेत पांच महिलाओं की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गए. घटना में दो अन्य व्यक्ति लापता हैं जिनकी तलाश की जा रही है.

घटनास्थल पर बचाव और राहत कार्यों की निगरानी कर रहे पिथौरागढ़ के जिलाधिकारी आशीष चौहान ने बताया कि रविवार देर रात जुम्मा गांव में यह हादसा हुआ. सशस्त्र सीमा बल के कमांडेंट एमपी सिंह ने बताया कि प्रभावित स्थल से तीन बहनों समेत पांच महिलाओं के शव बरामद कर लिए गए हैं जबकि दो अन्य लापता लोगों की तलाश जारी है.

मृतक बहनों की पहचान जुम्मा गांव के रहने वाले जोगा सिंह की पुत्रियों संजना (15), रेनू (11) और शिवानी (9) के रूप में की गई है. इसके अलावा हादसे में दो अन्य महिलाओं सुनीता देवी और पार्वती देवी की भी मौत हो गई. घटना में घायल हुई जयामती देवी और लाल सिंह को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. हादसे में लापता हुए चंदर सिंह और हजारी देवी को ढूंढने के लिए खोजी कुत्तों की मदद ली जा रही है.

उत्तराखंड के धारचूला में बादल फटा, मकानों के ढहने से तीन बहनों समेत 5 महिलाओं की मौत

मुख्यमंत्री धामी कर सकते हैं दौरा
देहरादून में मौजूद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जुम्मा गांव में भारी वर्षा से हुए नुकसान के बारे में कुमाऊं आयुक्त सुशील कुमार एवं मौके पर मौजूद जिलाधिकारी चौहान से फोन पर जानकारी ली. सरकारी सूत्रों ने बताया कि उन्होंने अधिकारियों को प्रभावित क्षेत्र से लोगों को तत्काल सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने, उनके रहने, खाने के साथ ही दवाइयों और बच्चों के लिए दूध की पर्याप्त व्यवस्था करने के निर्देश दिए. मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रभावित क्षेत्र में कोई न फंसे. मुख्यमंत्री ने कुमाऊं आयुक्त को प्रभावित क्षेत्र में यातायात व्यवस्था को जल्द बहाल करने के लिए युद्धस्तर पर कार्य करने के निर्देश दिए. धामी ने कहा कि मौसम साफ होते ही वह प्रभावित क्षेत्र का दौरा करेंगे.

ये भी पढ़ें-
India Rains 31 August: आज यूपी, बिहार, झारखंड, उत्तराखंड, पंजाब समेत इन राज्यों में हल्की से मध्यम बारिश संभव

अफगानिस्तान छोड़ने वाले आखिरी अमेरिकी सैनिक की फोटो, 20 साल का सैन्य अभियान खत्म