कानपुर के गोल्डन बाबा ने कोरोना से बचने को बनवाया सोने का मास्क

0

उत्तर प्रदेश के ‘यूपी के बप्पी लाहिड़ी’ के नाम से मशहूर कानपुर का यह शख्स खुद के लिए सोने का बना मास्क को लेकर चर्चा में हैं

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 01 Jul 2021, 05:19:56 PM

Golden Baba (Photo Credit: ANI)

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस से बचाव के लिए जहां सरकार वैक्सीनेशन से लेकर ‘दो गज की दूसरी और मास्क है जरूरी’ जैसे स्लोग देकर कोरोना विरोधी अभियान चला रही है. वहीं, कुछ सामाजिक संगठन व सामाजिक कार्यकर्ता भी अपने-अपने स्तरों पर लोगों के बीच जन जागरूकता कैंपेन चला रहे हैं. इस बीच उत्तर प्रदेश के ‘यूपी के बप्पी लाहिड़ी’ के नाम से मशहूर कानपुर का यह शख्स खुद के लिए सोने का बना मास्क को लेकर चर्चा में हैं. मनोज सेंगर, जिन्हें ‘मनोजानंद महाराज’ के नाम से भी जाना जाता है, उन्होंने सोने का मास्क बनवाने के लिए पांच लाख रुपये खर्च किए हैं.

यह भी पढ़ें : Doctors Day पर PM मोदी बोले- ईश्वर का दूसरा रूप कहलाते हैं डॉक्टर्स

मास्क के अंदर सैनिटाइजर का घोल

मनोजानंद महाराज के  मुताबिक, मास्क के अंदर सैनिटाइजर का घोल होता है जो 36 महीने तक काम करेगा. उन्होंने इसे ‘शिव शरण मास्क’ नाम दिया है. बप्पी लाहिड़ी की तरह मनोज को भी सोने का शौक है. वह चार सोने की चेन पहनते हैं जिनका वजन एक साथ लगभग 250 ग्राम है। उनके पास एक शंख, मछली और भगवान हनुमान का लॉकेट है। सभी सोने से बने हैं. मनोज आज भी करीब दो किलो वजन के सोने के आभूषण पहनते हैं. इसके अलावा उनके पास एक जोड़ी गोल्डन इयररिंग्स, रिवॉल्वर के लिए एक गोल्डन कवर और तीन गोल्ड बेल्ट हैं। उन्हें कानपुर का ‘गोल्डन बाबा’ भी कहा जाता है.

यह भी पढ़ें :Video: यूपी में खाकी पर एक और दाग, फ्री बिरयानी नहीं देने पर दुकानदार की बेरहमी से पिटाई

भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 48,786 नए मामले दर्ज

मनोज ने कहा कि सोने के चलते उन्हें असामाजिक तत्वों से धमकियां दी थीं. उन्होंने कहा, “मैं सभी सावधानियां बरतता हूं और मेरे पास हर समय मेरी रक्षा के लिए दो सशस्त्र अंगरक्षक रहते हैं. भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 48,786 नए मामले दर्ज किए गए, जबकि महामारी से इस दौरान 1,005 मौतें हुईं. केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने गुरुवार को यह जानकारी दी. 30 जून को, भारत में कोरोनोवायरस के कारण 817 मौतें दर्ज की गई थीं, जो 10 अप्रैल के बाद मौतों की सबसे कम संख्या थी. तीन दिन बाद एक बार फिर मौत का आंकड़ा 1,000 का आंकड़ा पार कर गया.



संबंधित लेख

First Published : 01 Jul 2021, 05:16:29 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.