ज्योतिप्रिय मल्लिक बोले- NHRC की रिपोर्ट में दावा, मैं एक कुख्यात असामाजिक व्यक्ति हूं

0

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के वन मंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के जरिए कोलकाता उच्च न्यायालय में उन्हें कुख्यात असामाजिक कहे जाने पर दुःख जताया और इस घटना को शर्मनाक करार दिया.

ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कहा, ‘यह मेरे लिए बेहद शर्मनाक और दुखद है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कोलकाता उच्च न्यायालय को एक रिपोर्ट सौंपी है और आरोप लगाया है कि मैं एक कुख्यात असामाजिक हूं. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को यह तथ्य पता होना चाहिए कि मैं एक पेशेवर वकील हूं और पिछले 10 वर्षों से मैंने स्टेट बार काउंसिल के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में काम किया है और 5 साल से मैं स्टेट बार काउंसिल का सदस्य हूं. स्वाभाविक रूप से यह जाने बिना कि उन्होंने एक गलत रिपोर्ट प्रस्तुत की.’

पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद कि हिंसा पर कलकत्ता उच्च न्यायालय को अपनी रिपोर्ट में सात सदस्यीय NHRC टीम ने राज्य की स्थिति को कानून के शासन के बजाय शासक के कानून की अभिव्यक्ति बताया है. बंगाल में सत्ताधारी पार्टी की जीत के परिणामस्वरूप हुई हिंसा ने हजारों लोगों के जीवन और आजीविका और आर्थिक गला घोंटने का काम किया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हिंसा की सभी घटनाओं को मुख्य विपक्षी पार्टी यानी टीएमसी समर्थकों, गुंडों और पुलिस के शिकार बीजेपी के समर्थकों के खिलाफ अंजाम दिया गया है.

उन्होंने कहा, ‘पश्चिम बंगाल के किसी भी पुलिस स्टेशन में मेरे नाम के खिलाफ एफआईआर की तो बात ही छोड़ दें, मैं उस व्यक्ति को इनाम दूंगा. असल में, मैं राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य को इनाम की पेशकश करूंगा. मेरे पास मेरी टीम है टीएमसी और जिस तरह से वे मेरा मार्गदर्शन करेंगे या मुझे सलाह देंगे, मैं कानून के अनुसार कार्रवाई करूंगा. यदि आवश्यक हो, तो मैं मानहानि का मामला भी दर्ज करूंगा. लेकिन मुझे बस इतना कहना है कि वह राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग झूठा और मनगढ़ंत है और जानबूझकर मेरा नाम शामिल किया है.’

दरअसल, मानवाधिकार टीम के जरिए प्रस्तुत 50 पृष्ठ की रिपोर्ट में राज्य सरकार को पीड़ितों के जरिए राज्य प्रशासन में विश्वास के नुकसान का उल्लेख किया है, जिनमें से कई यौन उत्पीड़न के शिकार थे. पश्चिम बंगाल के परिवहन मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा की पश्चिम बंगाल में कोई हिंसा नहीं हुई है. बल्कि जब बंगाल चुनाव आयोग के अधीन था तब कई टीएमसी कार्यकर्ता मारे गए थे.

अपनी स्थापना के बाद से टीम द्वारा किए गए सभी कार्यों के विस्तृत विवरण के साथ समिति की रिपोर्ट ने हत्या, बलात्कार आदि जैसे गंभीर अपराधों के लिए पश्चिम बंगाल के बाहर सीबीआई जांच की वकालत की है. इसने उच्च न्यायालय के आदेशों के कार्यान्वयन की निगरानी के अलावा मुआवजा, महिलाओं और पीड़ितों की सुरक्षा और दोषी सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की निगरानी के लिए एक निगरानी समिति के गठन की भी सिफारिश की है.

यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल: मुकुल रॉय के खिलाफ अयोग्यता पर पहली सुनवाई हुई, कलकत्ता हाई कोर्ट जाएगी बीजेपी