दिल्ली में कोरोना वायरस को लेकर केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने की समीक्षा बैठक, कहा- जनता को सही आंकड़ों की दी जाए जानकारी

0
दिल्ली में कोरोना वायरस को लेकर केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने की समीक्षा बैठक, कहा- जनता को सही आंकड़ों की दी जाए जानकारी

राजधानी दिल्ली में कोरोना के गंभीर हालातों के मद्देनजर केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने केंद्रीय गृह मंत्रालय समेत दिल्ली के तमाम वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की. इस बैठक में कैबिनेट सचिव ने स्पष्ट निर्देश दिए कि आम जनता को सही आंकड़ों की जानकारी दी जाए.

साथ ही कोविड-19 बेड आईसीयू और वेंटिलेटर की बढ़ती मांग के मद्देनजर हर तरह के उपाय किए जाए. बैठक में तमाम अधिकारियों ने दिल्ली की स्थिति की जानकारी कैबिनेट सचिव को दी और इस दौरान दिल्ली की चिकित्सा ढांचे को और चुस्त-दुरुस्त करने के उपायों पर जोर देने के लिए कहा गया.

केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक आला अधिकारी ने बताया कि इस बैठक में केंद्रीय कैबिनेट सचिव राजीव गाबा के अलावा केंद्रीय गृह सचिव एके भल्ला नीति आयोग के सदस्य डॉ वी के पाल दिल्ली के मुख्य सचिव, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी और राजधानी दिल्ली के तमाम नगर निगम आयुक्तों के अलावा एनडीएमसी के अध्यक्ष और आला अधिकारी शामिल थे.

प्रेजेंटेशन में ऑक्सीजन की उपलब्धता की स्थिति पर विचार हुआ

बैठक की शुरुआत में दिल्ली सरकार के अधिकारियों ने कैबिनेट सचिव को एक प्रजेंटेशन दिखाया जिसमें दिल्ली में वर्तमान सक्रिय मामलों मौतों और कोविड-19 की सकारात्मकता दर में हुए उतार-चढ़ाव को भी शामिल किया गया था. इसके अलावा इस प्रेजेंटेशन में ऑक्सीजन की उपलब्धता की स्थिति हेल्पलाइन, एंबुलेंस सेवा, कोरोना वायरस के किए जा रहे टेस्ट, घर में रहने वाले मरीजों आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई थी.

केंद्रीय गृह सचिव ने बैठक के दौरान कोविड-19 बेडू आईसीयू और वेंटिलेटर की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए जल्द से जल्द दिल्ली में चिकित्सा के बुनियादी ढांचे में और मजबूती लाने की आवश्यकता पर बल दिया. उन्होंने कोरोना की बाबा जिन वेब साइटों पर कोविड-19 और अन्य सुविधाओं तथा दवाओं आदि की उपलब्धता के बारे में सभी जानकारी जनता को उपलब्ध कराने की आवश्यकता पर जोर दिया.

कैबिनेट सचिव का कहना था कि यदि सही जानकारी जनता के पास तक रहेगी तो लोग सही जगह पर पहुंच सकेंगे और अफरा-तफरी भी नहीं मचेगी. साथ ही लोगों को जल्द मदद भी मिल जाएगी. उन्होंने कहा कि जरूरतमंद लोगों को सही जानकारी प्रदान करने के लिए एक एकल हेल्पलाइन भी बनाई जा सकती है. इस हेल्पलाइन को लोगों के बीच में सही तरीके से प्रचार कर आम जनता को उन्हें सामने आने वाली मुसीबतों से निजात दिलाई जा सकती है.

ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध करायी जाए इस पर ध्यान हो- कैबिनेट सचिव

कैबिनेट सचिव ने हाल ही में ऑक्सीजन की कमी के चलते हुए नुकसान को लेकर भी अपनी पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि लोगों को ऑक्सीजन पर्याप्त मात्रा में और समय पर उपलब्ध हो जाए इस पर पूरी तरह से ध्यान दिया जाए. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार कोदूकोटा आवंटित किया गया है. उसको टेंको दिल्ली तक लाने के लिए सभी सार्थक प्रयास करें. कैबिनेट सचिव ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर जो टेस्ट किए जा रहे हैं उन्हें और बढ़ाया जाए. साथ ही उनके परीक्षण परिणाम भी समय पर आम लोगों को मिल सके जिससे उन्हें किसी तरह की परेशानी ना हो.

बैठक में डॉ वी के पाल ने सुझाव देते हुए कहा कि दिल्ली के बुनियादी शिक्षा ढांचे को और अधिक मजबूत बनाए जाने की जरूरत है. इस में मजबूती लाने के लिए छोटे नर्सिंग होम और अन्य अस्पतालों को भी इसमें शामिल किया जा सकता है. उन्होंने कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत कोविड देखभाल केंद्रों को होटलों और उसी तरह के स्थानों में और अधिक खोलने को कहा जिससे जरूरत पड़ने पर लोगों को उस में भर्ती किया जा सके. उन्होंने इस आपदा से निपटने के लिए दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन को भी लेकर भी कुछ सुझाव दिए. फिलहाल कैबिनेट सचिव की इस बैठक के बाद राजधानी दिल्ली की आक्सीजन आपूर्ति सेवा में सुधार आने की संभावना है.

सूत्रों के मुताबिक केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने बैठक में स्पष्ट तौर पर कहा कि दिल्ली को लेकर अब कोई लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी. साथ ही अगर कोई भी अधिकारी इसमें रोड़ा बनेगा तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें.

जानें, पश्चिम बंगाल में करारी शिकस्त के बाद क्या बोले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष