नीतीश कुमार ने कहा- गंगा में जलस्तर बढ़ने से खतरा और बढ़ेगा, जातीय जनगणना-पेगासस पर भी दिया बयान

0

CM Nitish Kumar Statement: बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि हमने पत्र भेज दिया है. हमारी पार्टी के सांसदों ने गृहमंत्री अमित शाह से मिलकर भी अपनी बातें रखी हैं. फोन टैपिंग से जुड़े सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले को देख रही है. वह भी इस पर अपना फैसला सुनाएगी, जो भी शिकायतें और बातें सामने आ रही हैं, उसका भी समाधान होगा.

हवाई सर्वेक्षण के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि आज हमने पटना, नालंदा, गया एवं जहानाबाद जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया है. इन जिलों के कई इलाके बाढ़ से बहुत ज्यादा प्रभावित हैं. अगर गंगा नदी का जलस्तर और ज्यादा बढ़ता है तो इन इलाकों में बाढ़ का खतरा और ज्यादा बढ़ जाएगा. हमने निर्देश दिया है कि कल पटना और नालंदा जिले के डीएम और उनके साथ दूसरे अधिकारी जाकर पूरे इलाके का सर्वेक्षण करेंगे. टाल क्षेत्रों का भी जायजा लेंगे. उसके अगले
दिन गया और जहानाबाद के डीएम और अधिकारी उन इलाकों का सर्वेक्षण करेंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगले सप्ताह हम फिर से एक बार इन क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे. बाढ़ को नियंत्रित करने के लिए विभाग ने कार्य शुरू कर दिया है लेकिन फिर से वर्षापात होने से गंगा नदी का जलस्तर और ज्यादा बढ़ेगा, जिससे इन क्षेत्रों में और पानी फैल सकता है. उन्होंने कहा कि बिहार की नदियों के जलस्तर की स्थिति को लेकर विभाग द्वारा प्रतिदिन मुझे जानकारी दी जाती है लेकिन आज हमने खुद हवाई सर्वेक्षण करके स्थिति का जायजा लिया है ताकि लोगों को राहत पहुंचाने का कार्य ठीक ढंग से हो सके.

नदियों को जोड़ने के सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि छोटी-छोटी नदियों को जोड़ने से काफी लाभ होगा. पानी का संग्रहण हो सकेगा और जहां पानी का संकट होगा, वहां इसमें सहायता मिलेगी. उन्होंने कहा कि अभी की परिस्थिति में लोगों को हर प्रकार से राहत पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है. आपदा प्रबंधन विभाग एवं जल संसाधन विभाग के अधिकारी भी सर्वेक्षण के दौरान साथ थे. जो भी क्षेत्र प्रभावित हुए हैं वहां के लोगों को राहत दिलाना और सहायता पहुंचाना हमारी जिम्मेदारी है. फसलों को भी नुकसान हुआ है.

सीएम ने कहा कि पानी अधिक रहने से रोपनी के कार्य में भी दिक्कत आ रही है. जिस तरह से वर्षा हो रही है, सबको सचेत रहना है. हम लोग मानसून के शुरुआत में ही बाढ़ को लेकर सभी प्रकार की तैयारियों की समीक्षा करते हैं और जहां भी बाढ़ की स्थिति बनती है वहां तुरंत राहत पहुंचाने के लिए कार्य किया जाता है. हम शुरू से कहते रहे हैं कि राज्य के खजाने पर पहला अधिकार आपदा पीड़ितों का है. इसलिए सभी प्रभावित लोगों को राहत दिलाना हमारी प्राथमिकता है. वर्ष 2007 से ही इस पर काम किया जा रहा है.

जातीय जनगणना

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को नालंदा, गया, जहानाबाद और पटना जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया. हवाई सर्वेक्षण कर लौटने के बाद उन्होंने बताया कि स्थिति बहुत ज्यादा अच्छी नहीं है. अलर्ट रहने की आवश्यकता है. गंगा का जलस्तर अगर और बढ़ा तो परेशानी बढ़ सकती है क्योंकि जल निकासी का कोई विकल्प नहीं बचेगा. इस दौरान जब उनसे जातीय जनगणना कराने की मांग को लेकर पीएम मोदी से मुलाकात के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मुलाकात के लिए समय मांगने के बाबत उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख दिया है. अब जैसे ही समय मिलेगा वो इस मुद्दे पर बातचीत करने के लिए उनसे मुलाकात करेंगे.

पेगासस केस

वहीं, जब उनसे आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के दोबारा राजनीति में सक्रिय होने को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि सबको अधिकार है. उन्हें जो करना है, वो करें. इधर, नदी को जोड़ने पर नीतीश कुमार ने कहा कि यह जरूरी है. ऐसा हो जाने के बाद पानी की समस्या का समाधान हो जाएगा. पेगासस जासूसी मामले पर कहा कि सुप्रीम कोर्ट पूरे मामले को देख रहा है. ऐसे में जल्द सही बात सामने आ जाएगी.

यह भी पढ़ें:
बिहार: रेफरल अस्पताल का हाल बेहाल, फ्लैश जलाकर होता है इलाज, अटकी रहती है मरीजों की सांसें
बिहार के बांका में शराब की बड़ी खेप जब्त, 30 लाख रुपये आंकी गई कीमत, 2 तस्करों को किया गिरफ्तार