प्रसिद्ध न्यूरोलॉजिस्ट पद्मश्री डॉ. अशोक पनगड़िया का निधन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया शोक

0

जयपुर: प्रतिष्ठित न्यूरोलॉजिस्ट और पद्मश्री से सम्मानित डॉ. अशोक पनगड़िया का शुक्रवार को निधन हो गया. 71 वर्षीय डॉक्टर कोरोना वायरस संक्रमण और संक्रमण के बाद की जटिलताओं से पीड़ित थे.

पनगड़िया के निधन पर शोक जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि चिकित्सा क्षेत्र में उनके अग्रणी कार्य से चिकित्सकों एवं अनुसंधानकर्ताओं की पीढ़ियों को लाभ मिलेगा. मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘डॉ अशोक पनगड़िया ने एक बेहतरीन न्यूरोलॉजिस्ट के रूप में अपनी पहचान बनायी. चिकित्सा क्षेत्र में उनके अग्रणी कार्य से चिकित्सकों एवं अनुसंधानकर्ताओं की पीढ़ियों को लाभ मिलेगा. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिजनों एवं मित्रों के प्रति संवेदना. ऊं शांति.’’

अशोक गहलोत समेत तमाम मंत्रियों ने संवेदनाएं की व्यक्त

राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां, ऊर्जा मंत्री बी डी कल्ला ने डॉ. पनगडिया के निधन पर संवेदनाएं व्यक्त की है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को जाने माने न्यूरोलॉजिस्ट अशोक पनगड़िया के निधन पर दुख जताया और उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट की.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘डॉक्टर अशोक पनगड़िया के निधन की दुखद खबर मिली है. न्यूरोलॉजी (तंत्रिका विज्ञान) के क्षेत्र में उनके योगदान को लंबे समय तक याद किया जाएगा. उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना है.’’

अशोक पनगड़िया ने अपने घर पर ली आखरी सांस

पनगड़िया पिछले कुछ दिनों से एक निजी अस्पताल में वेंटिलेटर पर थे. पिछले दो दिनों में उनका स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद परिजन उन्हें शुक्रवार को घर ले गये, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रीय स्तर पर विख्यात, जाने-माने न्यूरोलॉजिस्ट, पद्मश्री से सम्मानित डॉ.अशोक पनगड़िया के निधन पर मेरी गहरी संवेदनाएं.’’

गहलोत ने कहा डॉ. पनगड़िया ने महत्वपूर्ण पदों पर रहते हुए चिकित्सा क्षेत्र में उल्लेखनीय सेवाएं दीं और महामारी के समय में भी चिकित्सा विशेषज्ञ के रूप में प्रदेश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. उन्होंने कहा, ‘‘डॉ. पनगड़िया का निधन चिकित्सा जगत एवं प्रदेश के लिए बड़ी क्षति है.’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मुझे व मेरे परिवार को व्यक्तिगत क्षति हुई है, मेरे उनसे पारिवारिक रिश्ते रहे हैं लम्बे समय तक उन्हें भुलाना सम्भव नहीं होगा.’’

यह भी पढ़ें.

मुकुल रॉय ने बीजेपी का दामन छोड़ क्यों टीएमसी में की घर वापसी? ये हैं पांच कारण