बीजेपी कार्यकर्ता रहे अभिजीत सरकार के शव को परिवार को सौंपने का सियालदह कोर्ट ने दिया आदेश

0

सियालदह कोर्ट ने बीजेपी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार के शव को परिवार को सौंपने का आदेश दिया. चुनाव के बाद हुई हिंसा के बीच 2 मई को सरकार की हत्या कर दी गई थी. चुनाव के बाद की हिंसा की याचिकाकर्ता प्रियंका टिबरेवाल ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के साथ बीजेपी कार्यकर्ता सरकार के शव को छोड़ने के लिए निचली सियालदह अदालत का रुख किया था जिस पर अदालत ने सहमति जताई.

कलकत्ता हाई कोर्ट ने 19 अगस्त के चुनाव के बाद हिंसा के आदेश में बीजेपी कार्यकर्ता सरकार की पोस्टमार्टम रिपोर्ट जांच एजेंसियों को सौंपने के लिए कहा था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट सीबीआई को सौंपी गई जिसके बाद केंद्रीय जांच एजेंसी की ओर से सियालदह कोर्ट को अनापत्ति दे दी गई. अब शव और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट परिवार को सौंप दी जाएगी.

सीबीआई कर रही है मामले की जांच

कोलकाता के नारकेलडांगा थाना क्षेत्र में मारे गए बीजेपी कार्यकर्ता अभिजीत सरकार की मौत से पहले बनाए गए फेसबुक लाइव वीडियो के बयान को सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इंडिया (सीबीआई) ने मौत के बयान के रूप में लिया है. सीबीआई वीडियो और कॉल रिकॉर्डिंग की प्रामाणिकता को सत्यापित करने के लिए अभिजीत के मोबाइल फोन को केंद्रीय फोरेंसिक लैब भेजेगी.

कोलकाता हाई कोर्ट ने सीबीआई को चुनाव के बाद हुई हिंसा की जांच की प्रगति की रिपोर्ट छह सप्ताह में देने को कहा. दो मई को विधानसभा के नतीजे आने के बाद नारकेलडांगा निवासी और भाजपा कार्यकर्ता अभिजीत सरकार के घर पर हमला किया गया. उसने एक से अधिक बार नारकेलडांगा पुलिस स्टेशन को फोन किया और आशंका व्यक्त की कि कहीं उसकी हत्या न हो जाए. अपनी मृत्यु से ठीक दो घंटे पहले, उन्हें आखिरी बार फेसबुक पर कुछ स्थानीय जमीनी नेताओं के नाम कहते हुए सुना गया था.

अभिजीत सरकार की मां और दादा के बयान लिया गया

सीबीआई ने अभिजीत की डीएनए रिपोर्ट और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट एकत्र की. सीबीआई पहले ही दो बार नारकेलडांगा का दौरा कर चुकी है और घटनास्थल का दौरा कर चुकी है. सीबीआई ने अभिजीत सरकार की मां और दादा के बयान लिए. सीबीआई ने विभिन्न स्थानों और जिलों का भी दौरा किया है जहां चुनाव के बाद हिंसा हुई है. पीड़ितों के परिवार के सदस्यों के बयान दर्ज किए गए हैं. सीबीआई की विशेष जांच टीम ने बैरकपुर, भाटपारा, श्यामनगर, नैहाटी, उत्तर और दक्षिण 24 परगना के अलावा बीरभूम और आसनसोल का भी दौरा किया है.

इससे पहले सीबीआई ने पूर्वी मिदनापुर में नंदीग्राम और खेजुरी का दौरा किया था. चुनाव के बाद हुई हिंसा में प्रताड़ित खेजुरी निवासी अपर्णा दास के घर सीबीआई की टीम पहुंची. तीन सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने परिजनों से बात की. वोट के नतीजे आने के कुछ ही देर बाद 5 मई की सुबह रेप के आरोप सामने आए. इस मामले में अपर्णा दास ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था.

यह भी पढ़ें.

Taliban New Government: अफगानिस्तान में आखिरकार तालिबान की नई सरकार, एक क्लिक में जानें सब कुछ

तालिबान की कैबिनेट पर पाकिस्तान की छाप, जानें- कैसे कटा मुल्ला बरादर का पत्ता और हक्कानी को मिली अहम जिम्मेदारी