भाजयुमो नेता दिल का दौरा पड़ने से निधन, तृणमूल कांग्रेस से शुरु हुई जुबानी जंग

0

<p style="text-align: justify;"><strong>कोलकाताः</strong> पश्चिम बंगाल में बीजेपी की युवा इकाई को बड़ा झटका लगा है. राज्य में भाजयुमो के उपाध्यक्ष राजू सरकार का सोमवार की रात पार्टी की बैठक में शामिल होने के बाद दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. पार्टी नेताओं ने यह जानकारी दी.</p>
<p style="text-align: justify;">उन्होंने बताया कि भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के राज्य उपाध्यक्ष सरकार ने हास्टिंग्स कार्यालय में बैठक के बाद बेचैनी की शिकायत की जिसके बाद उन्हें सरकारी एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया. सरकार को एसएसकेएम अस्पताल में दवाई दी गई और इसके बाद निजी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.</p>
<p style="text-align: justify;">उनकी मौत के बाद बीजेपी और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस में जुबानी जंग शुरू हो गई है. बीजेपी प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि मोर्चा की बैठक समाप्त होने के बाद सरकार अचानक बीमार पड़ गए और उसे एसएसकेएम अस्पताल ले जाया गया. उन्होंने आरोप लगाया कि एसएसकेएम में आईटीयू सुविधा नहीं होने की वजह से सरकार को कुछ किलोमीटर दूर निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.</p>
<p style="text-align: justify;">तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता और राज्य में पार्टी के महासचिव कुणाल घोष ने दावा किया कि उन्हें सूचना मिली कि सरकार को भाजयुमो नेताओं का एक धड़ा मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहा था. घोष का कहना है कि ‘राजू एक खुशमिजाज और सरल व्यक्ति थे. उन्होंने जुलाई में पहले सौमित्र खान के साथ मोर्चा से इस्तीफा दे दिया था, लेकिन बाद में अपना इस्तीफा वापस ले लिया. मुझे पता है कि पार्टी के खिलाफ उनकी कई शिकायतें थीं.'</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>इसे भी पढ़ेंः</strong><br /><a href="https://www.abplive.com/news/india/6-assam-police-personnel-dead-in-mizoram-assam-border-dispute-1945552"><strong>मिजोरम के साथ सीमा विवाद में असम के छह पुलिसकर्मियों की मौत, गृह मंत्री अमित शाह ने की दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात</strong></a></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/states/up-uk/farmers-protest-rakesh-tikait-said-if-the-demand-is-not-accepted-then-lucknow-will-be-made-delhi-1945444"><strong>राकेश टिकैत की सरकार को धमकी, अगर मांग नहीं मानी तो लखनऊ को दिल्ली बना देंगे</strong></a><br /><br /></p>