भारतीय महिला हॉकी टीम आज ब्रिटेन से हुए मुकाबले में हारी

0

टोक्यो ओलंपिक में आज हुए कांस्य पदक के मुकाबले में भारतीय महिला हॉकी टीम ग्रेट ब्रिटेन से 4-3 से हार गई. भारतीय टीम के इस हार के साथ ही ओलंपिक में मेडल जीतने का सपना टूट गया है. दसरे क्वार्टर में 3-2 की बढ़त बना चुकी भारतीय टीम इस बढ़त को अंत तक बरकरार नहीं रखा सकी और टीम को इस निर्णायक मैच में 4-3 से हार का सामना करना पड़ा.

भारतीय टीम के इस हार के बाद पूरा देश मायूस है, पर टीम ने टोक्यो ओलंपिक में जो ऐतिहासिक प्रदर्शन किया उसपर पूरे देश को उनपर गर्व है. यह पहला मौका था जब भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में मेडल के लिए मैच खेलने उतरी थी. टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम के दमदार प्रदर्शन को देखते हुए पूरे देश को यह विश्वास है कि यह टीम 2024 पेरिस ओलंपिक में भारत के लिए पदक जरूर लाएंगी.

ऐसा रहा टोक्यो ओलंपिक में सफर

भारतीय महिला हॉकी टीम ने जिस तरह से अपने सफर की शुरूआत की थी उसे देखकर कोई नहीं कह सकता था कि भारतीय टीम सेमीफाइनल या ब्रॉन्ज के लिए मुकाबला करेगी. 25 जुलाई को अपने ओलंपिक सफर का आगाज करने वाली भारतीय टीम को अपने पहले ही मैच में नीदरलैंड के हाथों 5-1 से करारी हार मिली.

नीदरलैंड के बाद भारतीय टीम का सामना जर्मनी की मजबूत टीम से हुआ इस मुकाबले में भी भारत को निराशा ही हाथ लगी और यह मुकाबला भारतीय टीम 2-0 से हार गई. जर्मनी के बाद भारत ब्रिटेन से भिड़ी इस मुकाबले में ब्रिटेन ने एकतरफा जीत अर्जित की और मुकाबला 4-1 से अपने नाम किया. टोक्यो ओलंपिक में यह भारतीय टीम की लगातार तीसरी हार थी.

लगातार तीन हार के बाद जीत की पटरी पर लौटी टीम

टोक्यो ओलंपिक में लगातार तीन हार झेलने के बाद किसी को भी यह उम्मीद नहीं थी कि भारतीय टीम सेमीफाइनल में पहुंच पाएगी. पर भारतीय टीम ने तीन के हार के बाद शानदार खेल दिखाया और इस टूर्नामेंट में जबरदस्त वापसी की. तीन लगातार हार के बाद भारतीय टीम का चौथा करो या मरो का मुकाबला दक्षिण अफ्रीका से हुआ इस मुकाबले में भारतीय टीम ने शानदार प्रदर्शन किया और यह मैच 4-3 से अपने नाम किया.

अफ्रीका के बाद भारत का सामना तीन बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया से हुआ ऑस्ट्रेलिया ग्रुप स्टेज में एक भी मुकाबला नहीं हारा था, ऐसे में सभी को यही लगा था कि भारत इस मुकाबले में हार जाएगा. पर देश की बेटियों ने सभी को दंग करते हुए चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 1-0 से हरा दिया. भारत की इस जीत के बाद सभी सन्न रह गए थे. किसी को यह भरोसा नहीं था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ऑस्ट्रेलिया को हराकर सेमीफाइनल में पहुचं जाएगी.

प्रदर्शन के दम पर 2024 ओलंपिक में पदक की जगाई उम्मीद

ओलंपिक में पहली बार सेमीफाइनल खेलने वाली भारतीय टीम को अर्जेंटीना ने 2-1 से मात दी. फिर आज हुए ब्रॉन्ज के लिए कड़े मुकाबले में ब्रिटेन के हाथों 4-3 से शिकस्त मिली. भारतीय महिला हॉकी टीम भले ही टोक्यो ओलंपिक में पदक न जीत पाई हो. पर उन्होंने जो शानदार प्रदर्शन किया उसपर पूरे देश को गर्व है. भारत की इन बेटियों के शानदार खेल को देखते हुए पूरे देश को यह विश्वास है कि भारतीय महिला हॉकी टीम पेरिस ओलंपिक में देश के लिए पदक जरूर जीतेंगी.     

यह भी पढ़ें:

Tokyo 2020: कड़े मुकाबले में ब्रिटन से हारी भारतीय महिला हॉकी टीम, ओलंपिक मेडल का सपना टूटा

Tokyo Olympic: ब्रॉन्ज मेडल मैच गंवाने के बावजूद कैसे भारतीय महिला टीम ने कैसे रचा इतिहास