मौर्य ने AMU कुलपति के पूर्व CM को श्रद्धांजलि के विरोध को बताया गलत

0

केशव प्रसाद मौर्या ने कहा, अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव कल्याण सिंह को नमन करने के लिए नहीं, पहुंचे, हालांकि बाबूजी की विराट छवि पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन इससे तालिबानी सोच जरूर नजर आती है.

News Nation Bureau | Edited By : Ritika Shree | Updated on: 25 Aug 2021, 05:13:23 PM

केशव प्रसाद मौर्य (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • केशव प्रसाद मौर्या ने एएमयू के खिलाफ विरोध को बताया गलत
  • केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि मैं इसकी निंदा करता हूं, भर्त्सना करता हूं
  • केशव प्रसाद मौर्या ने आगे कहा कि इसके पीछे सपा की तालिबानी सोच नजर आती है

उत्तर प्रदेश :

यूपी के उपमुख्यमंत्री ने केशव प्रसाद मौर्या ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के कुलपति के खिलाफ सिर्फ उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री को श्रद्धांजलि देने के नाम पर विरोध प्रदर्शन करने को गलत बताया है, उन्होंने कहा कि मैं इसकी निंदा करता हूं, भर्त्सना करता हूं ,लेकिन इसके पीछे समाजवादी पार्टी की तालिबानी सोच नजर आती है. सपा के सांसद का बयान भी ऐसा ही था. केशव प्रसाद मौर्या ने आगे कहा, अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव कल्याण सिंह को नमन करने के लिए नहीं, पहुंचे, हालांकि बाबूजी की विराट छवि पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन इससे तालिबानी सोच जरूर नजर आती है. हमारी उत्तर प्रदेश की जनता की सुरक्षा सर्वप्रथम आती है, जहां जरूरत है वहां एसटीएफ के सेंटर खोले जाएंगे ,आतंक निरोधक ट्रेनिंग सेंटर खोले जाएंगे. देवबंद में भी यही किया जा रहा है, इसे राजनीति के चश्मे से नहीं देखना चाहिए.

यह भी पढ़ेः मुन्नवर राना ने अब महर्षि वाल्मीकि की तालिबान से की तुलना, गुना में FIR दर्ज

केशव प्रसाद मौर्या जो खुद पिछड़ी समाज से आते हैं ,सोशल इंजीनियरिंग के ताने-बाने के साथ 2022 के चुनाव की तैयारी कर रही हैं, उनका कहना है कि जाति आधारित जनगणना के खिलाफ हमारी पार्टी बिल्कुल नहीं है. इशारों में केशव मौर्या ने कहा कि 2022 के चुनाव में तालिबानी सोच का सामना करना होगा. तालिबान का अफगानिस्तान में सत्ता में आना सबके लिए संकट है . अफगानिस्तानी नागरिकों को भारत शरण दे रहा है, हालांकि हम और केंद्र सरकार इस पर भी नजर बनाए हुए हैं कि कहीं कोई चूक ना हो.

यह भी पढ़ेः सीएम योगी आज करेंगे उज्जवला योजना 2.0 का शुभारंभ, 20 लाख महिलाओं को मिलेगा मुफ्त LPG कनेक्शन

बता दे कि, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के निधन पर शोक जताना अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) के कुलपति प्रो. तारिक मंसूर को भारी पड़ गया. शोक संवेदना व्यक्त किए जाने की एएमयू के छात्रों ने निंदा की है. इसके विरोध में अब एएमयू परिसर में उर्दू और अंग्रेजी में पर्ची चस्पा किए गए हैं, जिनमें छात्रों की नाराजगी का जिक्र किया गया है. पर्चों में कल्याण सिंह को ढांचा विध्वंस का अभियुक्त बताया गया. साथ ही, लिखा है कि हिंदुस्तान के मुसलमानों में कल्याण सिंह के खिलाफ नाराजगी है.



संबंधित लेख

First Published : 25 Aug 2021, 05:13:23 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.