राहुल गांधी पर ट्विटर की पाबंदी से कांग्रेस नाराज, सोमवार को करेंगे विरोध प्रदर्शन

0

नई दिल्ली: भारत सरकार और बीजेपी के बाद ट्विटर अब प्रमुख विपक्षी दल यानी कांग्रेस के निशाने पर आ गया है. रेप पीड़िता के माता-पिता की तस्वीर ट्वीट करने की वजह से ट्विटर की तरफ से राहुल गांधी के अकाउंट पर लगाई गई अस्थाई पाबंदी से कांग्रेस पार्टी नाराज है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष के खाते पर की गई इस कार्रवाई के दो दिन बाद पार्टी के बड़े नेताओं ने ट्विटर की आलोचना की है और साथ ही आरोप लगाया है कि ऐसा मोदी सरकार के दबाव में किया गया है. वहीं सोमवार को कांग्रेस के युवा और छात्र संगठन ने ट्विटर के खिलाफ प्रदर्शन करने का एलान किया है. 

दरअसल, दिल्ली कैंट से सटे इलाके में नाबालिग दलित बच्ची की कथित तौर पर रेप के बाद हत्या से आक्रोशित परिजनों और स्थानीय लोगों से मिलने पहुंचे राहुल गांधी ने न्याय की मांग करते हुए बच्ची के माता-पिता के साथ अपनी तस्वीर ट्वीट की थी. राहुल गांधी के ट्वीट के खिलाफ राष्ट्रीय बाल आयोग की शिकायत के बाद ट्विटर ने ना केवल राहुल गांधी का ट्वीट हटा दिया बल्कि उनके अकाउंट पर अस्थाई रोक भी लगा दी. ट्विटर के जरिए रोजाना मोदी सरकार पर हमला करने वाले राहुल गांधी पाबन्दी के कारण दो दिनों से ट्वीट नहीं कर पाए हैं. 

शनिवार देर शाम कांग्रेस ने इसकी जानकारी दी. साथ ही बताया कि अकाउंट को बहाल करने की प्रक्रिया की जा रही है. लेकिन समय गुजरने के साथ कांग्रेस के तेवर सख्त हो गए. पार्टी के नेताओं ने ट्विटर और केंद्र सरकार पर निशाना साधना शुरू किया. वहीं कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने “मैं भी राहुल” का ट्रेंड चलाया. 

कांग्रेस ने यह सवाल भी उठाया है कि पीड़ित परिवार की तस्वीर शेयर करने के लिए राहुल गांधी पर तो कार्रवाई हुई. लेकिन कुछ वैसी ही तस्वीर राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग की तरफ से भी की गई लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई.

कांग्रेस महासचिव और मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने राहुल गांधी द्वारा ट्वीट की गई तस्वीर को ट्वीट करते हुए लिखा- “मोदी सरकार दलित की बेटी को न्याय देने की बजाय, हमदर्दी व न्याय मांगने वाली बुलंद आवाज़ को दबाने का षड़यंत्र कर रही है. मोदी जी, #Twitter को डरा कर, श्री राहुल गांधी का अकाउंट बंद करा कर भी बेटी से न्याय की आवाज़ नही दबा पाएंगे. ट्विटर को दबाएं या FIR दर्ज कराएं, न्याय देना होगा.” 

अगले ट्वीट में सुरजेवाला ने लिखा- “वाह मोदी जी, 2 अगस्त को राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग दिल्ली की अबोध बेटी से मुलाक़ात कर मां-बाप की फ़ोटो #twitter पर लगाए, तो सही. बीजेपी की पूर्व सांसद व SC आयोग की मेम्बर 3 अगस्त को मां-बाप की फ़ोटो #Twitter पर लगाए, तो ठीक और राहुल गांधी जी बेटी के लिए न्याय मांगे तो अपराध!” 

दरअसल राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के आधिकारिक ट्विट और आयोग की सदस्य बीजेपी नेता अंजू बाला के ट्विट में भी पीड़ित माता-पिता की तस्वीर साझा की गई है. कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने इसे ट्विटर का दोहरा रवैया करार दिया. राहुल गांधी के ट्विटर अकाउंट पर पाबंदी लगाए जाने के विरोध में सोमवार को यूथ कांग्रेस दिल्ली में ट्विटर के दफ्तर के बाहर प्रदर्शन करेगा. वहीं एनएसयूआई ने संसद के पास प्रदर्शन का एलान किया है.