सरकार ने बढ़ाई फेम योजना के दूसरे चरण की समय सीमा

0

<p style="text-align: justify;"><strong>नई दिल्लीः</strong> सरकार ने शुक्रवार को कहा कि उसने इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण और इस्तेमाल को बढ़ावा देने वाली फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण को दो साल 31 मार्च, 2024 तक के लिए बढ़ा दिया. फेम इंडिया योजना (इलेक्ट्रिक वाहनों का तेजी से विनिर्माण और उपयोग) के दूसरे चरण में सार्वजनिक और साझा परिवहन साधनों को बिजली चालित बनाने पर जोर है.</p>
<p style="text-align: justify;">भारी उद्योग मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार योजना को एक अप्रैल, 2019 से तीन साल की अवधि के लिए क्रियान्वित करने का प्रस्ताव है. अब सक्षम प्राधिकरण की मंजूरी से फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण को दो साल और यानी 31 मार्च, 2024 तक बढ़ाने का निर्णय किया गया है.</p>
<p style="text-align: justify;">सरकार ने पर्यावरण अनुकूल वाहनों को बढ़ावा देने के मकसद से फेम इंडिया योजना 2015 में शुरू की थी. इस बारे में उद्योग मंडल फिक्की ने कहा कि योजना की समयसीमा बढ़ाए जाने से उद्योग को इलेक्ट्रिक वाहनों की टाली गई मांग को पूरा करने में मदद मिलेगी.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>दी जाएंगी कुल 670 इलेक्ट्रिक बसें</strong></p>
<p style="text-align: justify;">बता दें कि फेम इंडिया के दूसरे चरण की शुरुआत 1 अप्रैल 2019 से हुई थी. इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश में इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड गाड़ियों के इस्तेमाल को तेजी से बढ़ाना है. फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण के तहत सरकार ने देश के राज्यों को 670 इलेक्ट्रिक बसें देने का वादा किया था. इसके तहत महाराष्ट्र को 240, गुजरात को 250, चंडीगढ़ को 80 और गोवा को 100 बसें देने का फैसला किया गया था.</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>इसे भी पढ़ेंः</strong><br /><a href="https://www.abplive.com/news/india/police-says-2000-in-mumbai-given-fake-vaccines-another-500-in-kolkata-1931989"><strong>वैक्सीनेशन में फर्जीवाड़ा: मुंबई में 2 हजार और कोलकाता में 500 लोगों को लगाई गई फर्जी कोरोना वैक्सीन</strong></a></p>
<p style="text-align: justify;"><a href="https://www.abplive.com/news/india/health-ministry-filed-affidavit-in-supreme-court-on-oxygen-controversy-over-interim-report-regarding-delhi-ann-1931939"><strong>ऑक्सीजन पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने दाखिल किया सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा, दिल्ली को लेकर अंतरिम रिपोर्ट पर विवाद</strong></a></p>