कोरोना के कहर के बीच यूपी में कोरोना टीकाकरण को झटका, जाने कैसे ?

0
कोरोना के कहर के बीच यूपी में कोरोना टीकाकरण को झटका, जाने कैसे ?

नई दिल्ली:देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण हाहाकार मचा हुआ है. यूपी में भी कोरोना के कारण हालात काफी खराब हो चुके हैं. प्रदेश के अस्पतालों में बेड्स और ऑक्सीजन की भारी किल्लत सामने आ रही है. विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना से लड़ाई में वैक्सीन (Corona Vaccine) काफी बड़ी भूमिका निभा सकती है. कई रिपोर्टस में भी ये सामने आया है कि वैक्सीन लेने के बाद कोरोना होने की गुंजाइश काफी कम हो जाती है. इसीलिए देश में वैक्सीनेशन (Vaccination) का काम बड़ी तेजी के साथ चल रहा था. लेकिन इस बीच यूपी में वैक्सीनेशन को काफी तगड़ा झटका लगा है.

टीकाकरण का आंकड़ा काफी कम हुआ

कुछ दिनों पहले स्थिति यह थी कि हर रोज पूरे प्रदेश में लगभग 3 लाख टीके दिए जाते थे. एक-दो दिन तो यह संख्या 5 लाख तक भी गई थी लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है. टीकाकरण की रफ्तार बहुत सुस्त हो गई है. जहां पहले 3 लाख लोग प्रतिदिन टीके ले रहे थे, अब यह संख्या आधे से भी कम रह गई है. कोरोना के बढ़ते प्रकोप के बीच घटता टीकाकरण बेहद चिंतनीय है. कोरोना के खिलाफ लड़ाई में इसे जबरदस्त झटका माना जा रहा है.

3 दिन में सिर्फ 4 लाख लोगों के लगा टीका

दिनों-दिन टीकाकरण की संख्या गिरती ही जा रही है. आंकड़ों पर एक नजर डालें. 20 अप्रैल तक प्रदेश में एक करोड़ 11 लाख 46 हजार टीके लग गए थे. 23 अप्रैल तक यह आंकड़ा महज 1 करोड़ 16 लाख 23 हजार ही पहुंच पाया. यानी 3 दिनों में सिर्फ 4 लाख लोगों का ही टीकाकरण किया जा सका. इतने टीके पहले 1 दिन में दिए जाते थे.

वैक्सीन की कमी भी बड़ा कारण

नोएडा और गाजियाबाद में भी अब वैक्सीन का स्टॉक तेजी के साथ घट रहा है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गाजियाबाद के पास वैक्सीन की 12 हजार और नोएडा के पास 13 हजार खुराक ही बची हैं. गाजियाबाद को वैक्सीन की हाल ही में 5 हजार खुराक ही मिल पाईं. नोएडा में वैक्सीन की कमी के बाद अब टीकाकरण केंद्रों की संख्या 41 रह गई है. प्रदेश के अन्य जिलों में भी कुछ ऐसी ही स्थिति सामने आई है. हालांकि केंद्र सरकार की ओर से वैक्सीन की कमी को तत्काल प्रभाव से दूर करने का प्रयास किया जा रहा है.