सेक्टर 75 स्थित FUTEC GATEWAY में मेंटेनेंस के नाम पर लूट, कोरोना नियमों की भी उड़ रही धज्जियां

0

नोएडा: सेक्टर 75 के प्लाट नंबर 10 में स्थित FUTEC GATEWAY सोसायटी में मेंटेनेंस चार्ज के नाम पर पैसा उगाही हो रही है। सोसायटी के निवासियों को मेंटेनेंस के नाम पर बुनियादी सुविधाएं भी नहीं मिल रही हैं। सेक्टर 75 स्थित फ्यूटेक सोसायटी में रहने वाले एक बड़े चैनल के पत्रकार विभव शुक्ला ने बताया कि यहां हर महीने 2100 मेंटेनेंस चार्ज वसूला जाता है, लेकिन इसके लिए जो सुविधाएं मिलनी चाहिए उसमें से नाम मात्र की मिलती हैं। यहां सुविधाओं की कमी की वजह से सोसायटी में लोगों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। जानलेवा कोरोना महामारी के दौर में यहां केवल लिफ्ट को सेनिटाइज किया जाता है जबकि इससे कम मेंटेनेंस चार्ज लेने वाली अन्य सोसायटीयों में बने सभी फ्लोर को सेनिटाइज किया जा रहा है। ऐसे में इस महामारी काल में ये एक गंभीर मुद्दा है। 

सोसाइटी का निचला तल्ला है कूड़ेदान

विभव जी ने बताया कि हर महीने मेंटेनेंस के नाम पर 2100 रुपये लिये जा रहे हैं, लेकिन इसका 10% भी इस्तेमाल नहीं किया जाता। बुनियादी सुविधाओं को लेकर उन्होंने मेंटेनेंस का काम देख रहे राहुल से कई बार बात भी की लेकिन उनकी तरफ से कोई सुधार नहीं किया गया। इतना ही नहीं उनका कहना है कि मेंटेनेंस के पैसे का पूरा इस्तेमाल हो रहा है। जो कि कहीं से सही नहीं लगता। यहां बने फ्लेैट एक साल से अधिक होते ही टूटने लगते हैं। यहां इमारत बनाने में सबसे घटिया सामान का इस्तेमाल किया गया है। ऐसे में जब इसकी शिकायत मेंटेनेंस वालों से की जाती है तो वो एक साल पूरा होने का हवाला देकर पल्ला झाड़ लेते हैं।

घंटो तक खराब रहती है लिफ्ट



सोसायटी में रहने वाले आज तक के पत्रकार पुष्पेंद्र ने बताया कि हर रोज सोसायटी में लिफ्ट रुकने की और बिजली के कटने के साथ-साथ पावर फ्लकचुएशन की समस्या रहती है। इसके अलावा यहां पर पार्किंग के नीचे बना माला/तल्ला कूड़ेदान में तब्दील हो चुका है, जिसे किसी भी तरह से ढका नहीं गया है और न ही यहां की साफ-सफाई की जाती है। इसकी वजह से यहां से मच्छर और कीड़े मकौड़े पनपते हैं, जिसकी वजह से यहां बदबू की समस्या तो रहती ही है, साथ ही यहां के निवासी गंदगी के कारण अक्सर बीमार भी पड़ जाते हैं। मौजूदा समय में मेंटेनेंस सर्विस हद से ज्यादा खराब है। सोसायटी में जगह जगह प्लास्टर गिरता रहता है और कूड़ा भरा पड़ा है। कोरोना काल में भी यहां सुरक्षा का कोई ख्याल नहीं रखा जाता है। यहां लिफ्ट में एक भी कैमरा नहीं लगा है। लिफ्ट में गंदगी भरी पड़ा है। यहां ग्राउंड फ्लोर के अलावा किसी भी फ्लोर में कैमरा नहीं लगा है।



मेंटेनेंस के नाम पर हर महीने सभी निवासियों से रुपये तो वसूले जा रहे हैं, लेकिन यह पैसा कहां जा रहा है इसके बारे में कोई जानकारी देने को तैयार नहीं। मेंटेनेंस का पैसा कहां जा रहा है इसके बारे में जानकारी मांगने पर कुछ रद्दी कागज दिखाए जाते हैं। यह एक तरह से निर्माणाधीन सोसायटी है ऐसे में इसके लिए भारी-भरकम मेंटेनेंस चार्ज लगाना किसी लूट से कम नहीं।

मेंटेनेंस चार्ज की फोटे जिसमें सब समझ से परे है

यहां खानापूर्ति के लिए मेंटेनेंस की जाती है। मेंटेनेंस का पैसा कहां खर्च होता है इसका हिसाब मांगने पर मेंटेनेंस विभाग कोई जवाब नही देता। यहां हर समय लिफ्ट बंद पड़ जाती है। 3 लिफ्ट की जगह पर एक लिफ्ट है। इतना ही नहीं यहां फ्लैट के आसपास कुड़े का ढ़ेर भी जमा रहता है।


पत्रकार विभव शुक्ला जी ने कहा है कि अगर इस बारे में फैरन संज्ञान नहीं लिया गया तो इसके बारे में सभी प्रमुख अखबारों में खबरें छपवाई जाएंगी। साथ ही इसके संबंध में नोएडा के कलेक्टर सुहास एल वाई और इससे संबंधित सभी विभागों में शिकायत की जाएगी।