नई दिल्ली: देशभर में गुरुवार को महावीर जयंती मनायी जा रही है. महावीर जयंती को जैन धर्म के सबसे बड़े पर्व के रूप में मनाया जाता है. भगवान महावीर जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर हैं. महावीर को ‘वर्धमान’, वीर’, ‘अतिवीर’ और ‘सन्मति’ भी कहा जाता है. भगवान महावीर का जन्म करीब ढाई हजार साल पहले यानी ईसा से 599 वर्ष पूर्व, वैशाली के गणतंत्र राज्य क्षत्रिय कुण्डलपुर में हुआ था.

भगवान महावीर राजा सिद्धार्थ और रानी त्रिशला के पुत्र थे. भगवान महावीर के जन्मदिन को महावीर स्वामी जयंती कहते हैं. महावीर स्वामी के बचपन का नाम था वर्धमान. वे बचपन से ही वीर और साहसी थे. इतना ही नहीं, वे बचपन से वैरागी थे जिस कारण घर में उनका मन नहीं लगता था. महावीर ने 30 साल की उम्र में गृह त्याग दिया था.

बताया जाता है कि भगवान महावीर की शादी यशोधरा नाम की राजकुमारी से हुआ था. विवाहोपरांत भगवान महावीर और यशोधरा ने एक बेटी प्रियदर्शना को जन्म दिया था. हालांकि दिगंबर सुमदाय की मान्यता है कि भगवान महावीर का विवाह नहीं हुआ था, वे ब्रह्मचारी थे.

महावीर जयंती के इस मौके पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भी ट्वीट कर महावीर जयंती की बधाई दी है. कोविंद ने ट्वीट किया- महावीर जयंती के अवसर पर, मैं सभी देशवासियों, विशेषकर जैन समुदाय को, बधाई देता हूं. भगवान महावीर की शिक्षाएं आज के युग के लिए प्रासंगिक और महत्वपूर्ण हैं.

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीटर के जरिये से देशवासियों को बधाई दी. प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा कि भगवान महावीर के शांति, अहिंसा तथा समरसता के संदेश हम लोगों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीटर किया और लिखा कि आप सभी को महावीर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं.

Leave a Reply