CBSE पेपर लीक: 3 गिरफ्तार, 2 मुख्य आरोपी दिल्ली के एक ही स्कूल में टीचर, तीसरा आरोपी कोचिंग सेंटर का मालिक

61

नई दिल्ली: सीबीएसई पेपर लीक को लेकर क्राइम ब्रांच को बड़ी सफलता मिली है. ब्रांच ने रविवार को तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. इनमें से 2 मुख्य आरोपी दिल्ली के एक ही स्कूल में टीचर है. वहीं तीसरे आरोपी का कोचिंग सेंटर है.

क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार मुख्य आरोपियों की पहचान ऋषभ और रोहित के रूप में की है, जो दिल्ली के ही एक प्राइवेट स्कूल में टीचर हैं, जबकि तीसरे आरोपी की पहचान तौकीर के रूप में हुई है, जो आउटर दिल्ली में कोचिंग चलाता है.

क्राइम ब्रांच ने बताया कि सीबीएसई के पेपर दो तरीके से लीक हुए थे. परीक्षा से एक दिन पहले हाथ से लिखे पेपर लीक हुए थे, जबकि एग्जाम से महज एक घंटे पहले प्रिंटेड फॉर्म में पेपर लीक हुए. क्राइम ब्रांच अभी इस बात की जांच कर रही है कि लीक हुए पहले पेपर किसने लिखे थे.

परीक्षा से पहले ही खोल दी सील

गिरफ्तार हुए आरोपी टीचर ने बताया कि लिफाफा बंद पेपर की सील सुबह 9:45 बजे खोलनी थी, जबकि उसने आधा घंटा पहले 9:15 बजे ही सील खोल दी. उसने मोबाइल से पेपर्स की तस्वीरें लीं और तौकीर को भेज दीं. इसके बाद तौकीर ने व्हाट्सऐप के जरिए पेपर्स को लीक कर दिया.

CBSE हेडक्वार्टर पहुंची ब्रांच की जांच

ब्रांच की टीम सीबीएसई हेडक्वार्टर पहुंची. टीम ने सीबीएसई हेड से सवाल जवाब किए. क्राइम ब्रांच की टीम शनिवार रात मुख्यालय पर पहुंची थी.

SC में याचिका दायर

पेपर लीक को लेकर छात्रों में काफी विद्रोह है. छात्र लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं. वहीं केरल के रहने वाले एक दसवीं के छात्र ने पेपर लीक को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. याचिका में दसवीं के गणित के पेपर को रद्द करने और दोबारा परीक्षा करवाने वाले फैसले को चुनौती दी है.

ये है मामला

बता दें कि सीबीएसई की ओर से 12वीं बोर्ड के अर्थशास्त्र और 10वीं बोर्ड के गणित का पेपर, लीक होने की वजह से रद्द कर दिया गया था. साथ ही परीक्षा दोबारा करवाने का फैसला किया. हालांकि केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा है कि 10वीं के गणित की परीक्षा केवल दिल्ली एनसीआर में होगी. वहीं अर्थशास्त्र का पेपर पूरे देश में कराया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here