कोरोना वायरस: भोपाल में ट्रेन के 20 कोच में 320 बेड वाला कोविड केयर सेंटर शुरू, ये मरीज़ हो सकेंगे भर्ती

0
कोरोना वायरस: भोपाल में ट्रेन के 20 कोच में 320 बेड वाला कोविड केयर सेंटर शुरू, ये मरीज़ हो सकेंगे भर्ती

भोपाल:मध्य प्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोविड-19 के नये मामलों के मद्देनजर अस्पतालों में बिस्तरों की कमी को दूर करने के उद्देश्य से पश्चिम मध्य रेलवे ने भोपाल रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के 20 कोचों में 320 बिस्तरों वाला कोविड देखभाल केन्द्र रविवार से शुरू कर दिया

मध्य प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने भोपाल रेलवे स्टेशन के छह नंबर प्लेटफॉर्म पर बनाये गये इस कोविड देखभाल केन्द्र का निरीक्षण किया. जिसके बाद उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि ट्रेन के इन कोचों में आवश्यक दवाइयां एवं कर्मी हैं और इनमें आपात स्थिति में उपयोग करने के लिए ऑक्सीजन सिलेंडर भी हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मरीजों के स्वास्थ्य लाभ के लिए भोपाल स्टेशन पर रेलवे द्वारा पृथक-वास कोच उपलब्ध कराए गए हैं. मंत्री ने कहा कि भीषण गर्मी में कोचों को ठंडा रखने के लिए इनकी खिड़कियों में कूलर लगाए गए हैं और साथ-साथ मच्छरदानियों की व्यवस्था भी की गई है.

मध्य प्रदेश: भोपाल में कोरोना संक्रमण के बीच राज्य सरकार ने ट्रेन के डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील किया है।मध्य प्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग ने बताया, “हमने रेल में 300 बेड आइसोलेशन कोच की शुरूआत की है। इससे हम संक्रमण की चेन को तोड़ेंगे और अस्पतालों में दबाव कम होगा।”

उन्होंने कहा, इस केन्द्र में मरीजों को भर्ती करना शुरू कर दिया गया है रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शनिवार सुबह ट्वीट किया था मध्य प्रदेश के भोपाल में भारतीय रेल द्वारा 20 कोविड देखभाल कोचों की व्यवस्था की गयी है, जिनमें 320 बिस्तर होंगे. ये कोच 25 अप्रैल से पूरी तरह कार्य करना शुरू कर देंगे.

पश्चिम मध्य रेलवे के भोपाल मंडल के एक अधिकारी ने बताया कि भोपाल रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर छह पर इन पृथक-वास कोचों को लगाया गया है. उन्होंने कहा कि इस केन्द्र में कोविड-19 के केवल हल्के एवं मध्यम लक्षण वाले मरीजों को ही भर्ती किया जाएगा. उन्होंने स्पष्ट कहा कि इनमें गंभीर रूप से बीमार मरीजों को भर्ती नहीं किया जाएगा. अधिकारी ने बताया कि यदि इस केन्द्र में कोई भर्ती मरीज गंभीर हो जाता है, तो उसे किसी अस्पताल में बेहतर इलाज के लिए भेज दिया जाएगा.