इटावा पंचायत चुनाव: मुलायम परिवार के इन सदस्यों ने डाले वोट, कोरोना वजह से अखिलेश समेत ये दिग्गज सपा नेता रहे दूर

0

इटावा. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के गढ़ इटावा (Etawah) में सोमवार को द्वितीय चरण के पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) में वोट डाले जा रहे हैं. जिले में कड़ी सुरक्षा के बीच लोग अपने-अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं. लेकिन इसी बीच खबर सैफई (Saifai) से है, जहां समाजवादी पार्टी के प्रमुख और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav), समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) और पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव (Ramgopal Yadav) कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की वजह से वोट डालने नहीं आ रहे हैं.

हालांकि मुलायम परिवार के अन्य सदस्य बदायूं के पूर्व सांसद और अखिलेश यादव के चचेरे भाई धर्मेंद्र यादव, उनके पिता अभय राम यादव, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय महासचिव आदित्य यादव अपनी पत्नी राजलक्ष्मी के साथ अपने मताधिकार का प्रयोग कर चुके हैं. सैफई के राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में पंचायत चुनाव को लेकर के मतदान केंद्र बनाया गया ,है जहां पर मुलायम परिवार के अधिकाधिक सदस्य अपने गांव के अन्य मतदाताओं के साथ मतदान करने के लिए धीरे-धीरे करके पहुंच रहे हैं.

इन्होंने भी किया मतदान
ऐसी भी खबरें सामने आ रही है कि प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव दोपहर 2 बजे के आसपास राजधानी लखनऊ से सैफई आकर इसी मतदान केंद्र पर अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। अभी तक मुलायम परिवार के महत्वपूर्ण सदस्यों में शामिल मैनपुरी के पूर्व सांसद व राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के दामाद तेज प्रताप यादव, उनकी पत्नी राजलक्ष्मी, मुलायम सिंह यादव के भाई राजपाल सिंह यादव पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष उनकी पत्नी प्रेमलता यादव, जिला पंचायत अध्यक्ष पद के प्रमुख दावेदारों में से एक निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष अभिषेक यादव ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग  किया है.

कोरोना संक्रमित हैं अखिलेश यादव

अखिलेश यादव पिछले दिनों उत्तराखंड के हरिद्वार में अपने भ्रमण के दौरान वहां कुछ संतो से मुलाकात के वक्त कोरोना संक्रमितों के सम्पर्क में आ गए. जिसके बाद राजधानी लखनऊ में उन्होंने अपना परीक्षण कराया और वह कोरोना संक्रमित पाये गए. अखिलेश यादव के सैफई में मतदान न करने के पीछे यही सबसे बड़ी वजह बताई गई है, जबकि समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के बीमार होने के कारण मेदांता में उपचाराधीन होना मतदान से दूर रहना मुख्य कारण माना गया है. जबकि समाजवादी पार्टी के प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव कोरोना वायरस की विभीषिका के व्यापक होने के कारण इस दफा पंचायत चुनाव में मतदान से दूरी बनाए हुए हैं.