मऊ: जिले के केरमा महरूपुर गांव के एक व्यक्ति को कुछ बदमाशों द्वारा जान से मारने की कोशिश किए जाने का मामला सामने आया है। मामले में घोसी थाना पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर एफआइआर तो दर्ज कर लिया, लेकिन आरोपितों के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। आरोपित अब तक गांव में बेखौफ होकर घूम रहे हैं। ऐसा मालूम पड़ता है कि उन्हें पुलिस-प्रशासन का कोई डर ही नहीं है।



पुलिस को दी शिकायत में केरमा महरूपुर गांव के निवासी राजेश यादव ने बताया कि 10 अगस्त को दोपहर करीब 12:00 बजे नकटा चट्टी स्थित राजनाथ मौर्य की दुकान से 2 बोरी खाद खरीदकर मोटरसाइकिल से सिरकरौर नहर होते हुए अपने गांव की ओर लौट रहे थे। रास्ते में आरोपित विनोद यादव ने अपने कुछ साथियों अरुण यादव, अरविंद यादव,संदीप यादव,प्रदुमन यादव व दो अन्य लोगों के साथ मिलकर उन पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। इससे उनका सिर फट गया और वह जमीन पर गिर पड़े। 

दर्द से कहराते राजेश यादव की चीख सुनकर घटनास्थल पर पहुंचे गांव वालों ने बीच-बचाव करते हुए आरोपितों को उनकी जान लेने से रोका। ऐसे में आरोपित पीड़ित राजेश को जान से मारने की धमकी देते हुए वहां से चले गए। गांव वालों ने बताया कि आरोपित विनोद पर पहले से ही मारपीट व लूटपाट के कई मामले दर्ज हैं। स्थानीय लोगों से मिली जानकारी के मुताबिक आरोपित विनोद के पिता राम कुबेर यादव गांव के पूर्व प्रधान हैं, जिनकी दबंगई और डर के चलते आज तक आरोपित पर पुलिस की तरफ से कोई कार्रवाई नहीं की जाती है।

नाम न बताने के शर्त पर एक गांव वाले ने बताया कि कार्रवाई के नाम पर जब भी क्षेत्र का कोई पुलिसकर्मी विनोद व उसके पूर्व प्रधान पिता के घर जाता है तो मात्र चाय पीकर लौट अता है। इससे साफ समझा जा सकता है कि कार्रवाई के नाम पर पुलिस केवल लीपापोती कर रही है।


बता दें, घटना से कुछ दिन पहले आरोपित विनोद ने गांव के ही एक युवक के साथ मारपीट कर उसे जान से मारने की धमकी दी थी। इसकी शिकायत राजेश ने पुलिस से की थी। इसी बात पर बौखलाए विनोद ने राजेश से बदला लेने के लिए अपने साथियों के साथ मिलकर उन पर जानलेवा हमला कर दिया। राजेश के मुताबिक,15 दिन से अधिक बीत जाने के बाद भी पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। 

Leave a Reply