काठमांडू : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अपने नेपाल दौरे को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि उनकी यह यात्रा काफी सफल रही। अपना दो दिवसीय नेपाल दौरा पूरा करने के बाद मोदी ने ट्वीट किया, “मेरी नेपाल यात्रा ऐतिहासिक थी। इस दौरान मुझे नेपाल के निराले लोगों से संपर्क स्थापित करने का बड़ा मौका मिला।”

उन्होंने कहा कि उनके नेपाली समकक्ष के. पी. शर्मा ओली के साथ बातचीत उपयोगी रही और इस दौरे से भारत और नेपाल के बीच रिश्तों को नई स्फूर्ति मिली।

मोदी ने ट्वीट में कहा, “नेपाल की जनता और सरकार को उनके उत्साह के लिए धन्यवाद।” इससे पहले उन्होंने कहा कि नेपाल के साथ गलतफहमी दूर हो गई है।

मोदी ने अपनी यात्रा के दौरान नेपाल के मंदिरों में पूजा-अर्चना की और जनकपुर-अयोध्या बस सेवा की शुरुआत की। उन्होंने 900 मेगावाट जलविद्युत परियोजना का उद्घाटन किया और जनकपुर नगर के विकास के लिए 100 करोड़ रुपये प्रदान करने की घोषणा की।

उन्होंने राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी के साथ व्यापक बातचीत की और पूर्व प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा व नेपाली कांग्रेस के अन्य सदस्यों समेत विपक्षी दलों के नेताओं से भी मुलाकात की।

उन्होंने नेपाल के पूर्व प्रधानमंत्री और कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (माओवादी सेंटर) के अध्यक्ष पुष्प कमल दहाल ‘प्रचंड’ के साथ द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने को लेकर भी बातचीत की।

प्रचंड ने मोदी से विराटनगर और नेपाल-भारत सीमा पर भारतीय दूतावास के संपर्क कार्यालय से जुड़ी समस्याओं का समाधान करने का आग्रह किया।

भारत के प्रधानमंत्री ने देश के राजनीतिक दलों को खुशहाल नेपाल के सपनों को हकीकत बनाने के लिए मिलजुल कर काम करने की नसीहत दी।