देश की जनता को जब भी मौका मिला है कांग्रेस को निकाला है: पीएम मोदी

146

येदियुरप्पा के 75वें जन्मदिन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कर्नाटक के दावणगेरे में किसान रैली को संबोधित कर रहे हैं. राज्य चुनाव प्रचार के दौरान यह तीसरा अवसर है जब पीएम मोदी राज्य का दौरा कर रहे हैं.

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण की शुरुआत कन्‍नड़ भाषा में की . पीएम मोदी ने कहा कि जब मैं गुजरात में सीएम था तो सरदार पटेल का स्‍टैचू बनाने का संकल्‍प किया. पटेल किसानों के लिए सबसे ज्यादा आंदोलन करने वाले नेता थे. पटेल की स्‍टैचू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई स्‍टैचू ऑफ लिबर्टी से भी दोगुनी है. मोदी ने कहा कि इस कर्नाटक की सरकार का जाना तय. यह अपने पापों के भार से इस स्‍थ‍िति में पहुंची. मोदी ने कहा कि यह राज्‍य सरकार कांग्रेस को भी बचा नहीं पाएगी.

पीएम नरेन्द्र मोदी ने रैली में कहा कि देश की जनता को जब भी मौका मिला है कांग्रेस को निकाला है, देश की जनता को भी पता चल गया है कि देश की समस्याओं का कारण कांग्रेस कल्चर है.

मोदी ने कहा कि हमारी हर योजना के केंद्र में किसानों का कल्याण और कृषि विकास है. मोदी ने कहा कि कुछ लोगों का मत हैं कि कर्नाटक में सिद्धारमैया की सरकार चल रही है तो ज्‍यादातर लोगों का मानना है कि यहां सीधा रुपैये की सरकार चल रही है.

अमीर घरानों के लोगों ने 48 साल शासन किया, वहीं एक चायवाले की सरकार ने 48 माह तक शासन किया. 48 साल वाली सरकार ने किसानों पर ध्‍यान नहीं दिया, वहीं 48 माह की सरकार ने किसानों की जिंदगी बदलने का काम किया है. कांग्रेस सरकार ने कपास की फसलों और मिलों को बर्बाद किया.

मोदी ने कहा कि बीजेपी सरकार पूरे देश में किसानों का भाग्‍य बदलने के लिए काम कर रही है. वर्तमान में किसानों की हालत काफी खराब है. हमने किसानों को सुरक्षा देने के लिए उनकी फसलों को बीमा देने की योजना बनाई है. इस बीमा से फसल खराब होने पर ही फसलों का न्‍यूनतम मूल्‍य जरूर मिलेगा. मोदी ने कहा कि अकेले कर्नाटक में 11 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किसानों को हुआ है.

बता दें कि दक्षिण में कर्नाटक ही अकेला राज्य है जहां बीजेपी अपने दम पर सरकार बना कर दिखा चुकी है. 2009 लोकसभा चुनाव में बीजेपी की सीटें पूरे देश में कम हुई थीं लेकिन कर्नाटक में बीजेपी ने 19 सीटों पर अपना परचम फहराया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here