दो प्रत्याशियों का मामला सुलझाने गयी पुलिस ने गांव में मचाया तांडव, लोगों के घरों में किया तोड़फोड़

0

अभिषेक उपाध्याय जिला संवाददाता आजमगढ़

आजमगढ़।  जहानागंज थाना क्षेत्र के उम्मरपुर गांव में मंगलवार को चुनावी रंजिश को लेकर प्रधान पद के दो प्रत्याशियों के बीच बवाल हो गया। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर लाठी-डंडा व ईंट-पत्थर से हमला कर दिया। एक पक्ष द्वारा हवाई फायरिंग भी किए जाने की सूचना है। बवाल की सूचना पर जहानागंज पुलिस जब गांव में पहुंची तो दोनों पक्षों ने एक जुट होकर पुलिस पर ही हमला बोल दिया। जिस पर पुलिस ने भी लाठियां भांज कर लोगों को खदेड़ा। वहीं ग्रामीणों ने पुलिस पर गांव में जम कर तांडव मचाने और घरों में तोड़फोड़ का आरोप लगाया है।   वहीँ पुलिस का कहना कि उन्होंने  कुछ नहीं किया यह आपस में विवाद का नतीजा है.

जानें पूरा मामला 

ग्राम सभा उम्मरपुर के प्रधान पद के दो प्रत्याशियों रामाश्रय राजभर व क्रांति राजभर के समर्थकों में मंगलवार की रात वोटिंग को लेकर कहासुनी हो गई। तू तू, मैं-मैं से शुरू हुआ विवाद कुछ ही देर में मारपीट में तब्दील हो गई और दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर लाठी-डंडा व ईंट पत्थर से हमला बोल दिया। एक पक्ष की तरफ से इस दौरान हवाई फायरिंग भी की गई। सूचना मिलते ही जहानागंज थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस गांव में पहुंचते ही आपस में भिड़ रहे दोनों प्रत्याशियों के समर्थक एक जुट हो गए और पुलिस टीम पर ही पथराव शुरू कर दिया। ग्रामीणों के उग्र होने पर पुलिस ने भी लाठियां भांजनी शुरू कर दिया और जो जहां जैसे मिला, उसकी जम कर पिटाई कर दी। पुलिस द्वारा बल प्रयोग करते ही आपस में भिड़ रहे प्रत्याशी समर्थक मौके से फरार हो गए। मारपीट व पथराव की घटना में रामाश्रय पक्ष से 45 वर्षीया सुनीता राजभर, 23 वर्षीय विशाल राजभर व 28 वर्षीय सोनू राजभर तथा क्रांति राजभर पक्ष से 45 वर्षीय जोशपाल, 65 वर्षीय भीरा राजभर व 45 वर्षीय हरिपाल घायल हो गए।

घायलों में शामिल भीरा राजभर को गंभीर चोट आई है और उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लाकर भर्ती कराया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस ने गांव में जम कर तांडव मचाया और कई वाहनों को तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया।
थाना प्रभारी, जहानागंज संदीप यादव ने बताया कि चुनावी रंजिश को लेकर मारपीट की सूचना पर जब पुलिस गांव में पहुंची तो आपस में विवाद कर रहे लोग एकजुट हो गए और पुलिस टीम पर ही पथराव कर दिया। जिस पर पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर लोगों को खदेड़ा। पुलिस द्वारा कोई तोड़फोड़ नहीं की गई है। जिस तोड़फोड़ का आरोप लगाया जा रहा है वे आपस में मारपीट के दौरान ग्रामीणों ने खुद ही किया है। अभी किसी पक्ष की तरफ से कोई तहरीर भी नहीं मिली है।