इनके घर में होली के साथ दिवाली भी मनाई जा रही है क्यो कि बेटी ने जज की परीक्षा में टॉप किया है.

80
आज होली है. कल यानी गुरुवार को पीसीएस-जे परीक्षा के परिणाम घोषित किया गया था. इस परिक्षा में जिसने टॉप किया है, उनका नाम है पूनम टोडी. इनके घर में होली के साथ- साथ दिवाली भी मनाई जा रही है.

उत्तराखंड के देहरादून की रहने वाली पूनम ने प्रांतीय सिविल सेवा (पीसीएस-न्यायिक) 2016 में टॉप किया है. पूनम बेहद सामान्य परिवार से हैं. इनके पिता ऑटो रिक्शा चलाते हैं.

पूनम इससे पहले भी जज की परीक्षा में पास हो चुकी थी. वो भी दो बार लेकिन दोनो बार इंटरव्यू में फेल हो गई. हौसला बुलंद था, फिर से प्रयास किया . तीसरा प्रयास जिसमे पूनम ने टॉप कर दिया.

पूनम के पिता अशोक कुमार टोडी पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते 10वीं से आगे नहीं पढ़ पाये. घर की जिम्मेदारी बढ़ी तो पढ़ाई छोड़कर टिहरी में ही दुकान चलानी शुरू कर दी. टिहरी बांध बनने के बाद परिवार देहरादून आ गया. अशोक कुमार ने यहां भी दुकान शुरू की, लेकिन नहीं चल पायी. जिसके बाद उन्होंने ऑटो चलाना शुरू कर दिया. ऑटो चलाकर बच्चों को पढ़ाया .

मेहनत का फल मिला. बेटी प्रांतीय सिविल सेवा में टॉपर रही. पिता अशोक कुमार ने बताया कि वो इस खुशी को शब्दों में बयां नहीं कर सकते. बेटी ने जो किया है, उससे मेरा सिर गर्व से ऊंचा हो गया है. वहीं मां लता टोडी कहती हैं कि जिस बाप ने बच्चों को पढ़ाने के लिए उम्र भर ऑटो चलाया, आज यह सफलता उन्हीं की जीत है.

इन दिनों…पूनम ने स्कूली शिक्षा के बाद डीएवी पीजी कॉलेज से बीकॉम, एमकॉम और एलएलबी पास की है और एससीईआरटी कैंपस बादशाहीथौल से एलएलएम की पढ़ाई कर रही हैं.

पूनम इस सफलता के बारे में बताती हैं कि, उन्होंने चार साल तक परीक्षा की तैयारी की है. कोई भी शॉर्टकट नहीं तलाशा. लॉ से जुड़े पूरे सिलेबस को गहराई से अध्ययन किया. इसी का नतीजा है कि पूरे सिलेबस की काफी जानकारी हो गयी. सभी कंसेप्ट क्लियर हो गये. उन्होंने दिल्ली में कोचिंग की इसके अलावा, देहरादून में भी कुछ दिन इंटरव्यू की तैयारी की थी. जिसके बाद उन्हें ये सफलता मिली.

वो कहते हैं ना अगर किसी चीज को दिल से चाहो तो सारी कायनात उसे तुमसे मिलाने में लग जाती है. बशर्ते उसे पाने के लिए आपकी कोशिश ईमानदार होनी चाहिए इसका उदाहरण पूनम टोडी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here