मुंबई:हमेशा अख़बारों की सुर्ख़ियो में रहने वाली राजनीतिक पार्टी शिवसेना,जिसपर वर्तमान की विपक्ष सरकार कई तरह की आरोप लगा रही है,चाहे वो कोरोना में सही इलाज न मिलने का हो या फिर सुशांत सिंह राजपूत वाले सुसाइड केस का लेकिन शिवसेना के दिग्गज नेता एवं सांसद हेमंत पाटिल ने उनके सभी आरोपों को ख़ारिज किया और कई सवालों का जबाब भी दिया जो आपके सामने है.

वर्तमान में कोरोना महामारी से पूरा विश्व परेशान है। हमारे देश में भी करोना बहुत तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में महाराष्ट्र में कोरोना से बचाव के लिए महाराष्ट्र सरकार कैसे काम कर रही है?
इस सवाल के जवाब देते हुए हेमंत पाटिल जी ने कहा कि महाराष्ट्र में लगभग 12 करोड़ की आबादी है तथा लगभग आधी आबादी अकेले मुंबई में रहती है। वहां पर बहुत ही घनी आबादी है। ऐसे में वहां पर कोरोना से बचाव के लिए हमारी सरकार लगातार काम कर रही है। बीएमसी ने महाराष्ट्र के सरकारी अस्पताल में कोरोना से बचने के लिए कोविड सेंटर बनाया है। वहां पर मरीजों का पूरा ध्यान रखा जाता है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे मुख्यमंत्री जी लगातार इसके बचाव के लिए मीटिंग करते रहते हैं। इस पर लगातार चलता रहा है।

वर्तमान में महाराष्ट्र में कंगना रनौत को लेकर शिवसेना के सांसद संजय रावत जी ने एक अभद्र बयानबाजी की थी। और बीएमसी ने भी 24 घंटे का नोटिस देकर उनका ऑफिस गिरा दिया। सर आपको क्या लगता है कि यह सब करना उचित था?
इस सवाल पर उन्होंने कहा कि जो कंगना का ऑफिस गिराया गया वह एक अनाधिकृत बिल्डिंग थी। उन्होंने कहा कि जब गरीबों का घर टूटता है तो कोई कुछ नहीं बोलता लेकिन एक हीरोइन का ऑफिस तोड़ा गया तो इसे 8 दिनों तक चैनलों पर चलाया गया। अगर हमारी सरकार इस पर काम कर रही है तो इससे लोगों को कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस पर जो राजनीति मीडिया में चल रही है मेरे हिसाब से आप गलत है।
आप राजनीति में कैसे आए?
इस सवाल पर उन्होंने कहा कि मैं एक आम परिवार से आता हूं। मेरे परिवार में कोई भी राजनीति में नहीं था। उन्होंने कहा कि जब मैं स्कूल में था तभी से मेरा राजनीति में लगाव था। कॉलेज में जाने के बाद मै विद्यार्थी संसद का प्रेसिडेंट बन गया। और वहां पर GS बना। और भी कई पदों पर मैंने सेवा दी। बाद में शिवसेना विद्यार्थी यूनियन का 10 साल तक चेयरमैन रहा। और बाद ने एमएलए बना। और अभी मैं एक सांसद हूं। उन्होंने कहा कि मै आम आदमी के लिए कुछ करना चाहता हूं, इसीलिए मैं राजनीति में आया।
वर्तमान में रोजगार का मुद्दा सबसे ज्यादा चल रहा है। विपक्ष भी केंद्र सरकार पर सवाल उठा रहा है। आपको क्या लगता है कि यह सवाल केन्द्र सरकार के ऊपर उठाना उचित है?
इस सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि इस समय देश में सबसे बड़ी समस्या जनसंख्या का है। मेरे हिसाब से एक परिवार में सिर्फ एक ही बच्चा होना चाहिए। जब तक जनसंख्या नियंत्रण करने के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाया जाएगा तब तक इस देश में बेरोजगारी जैसी समस्याओं से निपटना मुश्किल है। बेरोजगारी को दूर करने के लिए हमें छोटे-छोटे कामों को बढ़ावा देना चाहिए। बीजेपी सरकार ने जो इसके लिए “स्किल इंडिया” निकाली थी, वह एक अच्छा कदम था। लेकिन सरकार ठीक से काम नहीं कर पाई। और जीएसटी की वजह से भी काफी उद्योग बंद हो गए जिससे बेरोजगारी बढ़ी है।

एनआरसी को लेकर आप क्या कहेंगे?

इस पर उन्होंने कहा कि एनआरसी एक अच्छा कदम है हमारे देश के लिए। पाकिस्तान,बांग्लादेश भी कभी भारत देश का हिस्सा रहा है। वहां पर हिंदुओं के साथ जो अत्याचार हो रहा है। हिन्दुओं के मंदिरों को तोड़ा जा रहा है। जबरदस्ती कन्वर्ट किया जा रहा है। अगर उन्हें हमारे देश में घर मिल रहा है तो यह अच्छी बात है।
जनसंख्या नियंत्रण बिल केंद्र सरकार आने का प्लान बना रही है। उसमें क्या आप केन्द्र सरकार का साथ देंगे?
इस पर उन्होंने कहा कि हां जरूर, मैं इस पर केंद्र सरकार के साथ हूं। उन्होंने आगे कहा कि एक परिवार में सिर्फ एक ही बच्चा होना चाहिए। अगर देश को बचाना है तो देश में ऐसा कानून जरूर लाना होगा।
महाराष्ट्र में प्रॉब्लम से निपटने के लिए क्या कुछ योजनाएं महराष्ट्र सरकार लाने वाली है?
इस पर उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने कई परियोजनाओं पर काम करने के प्लान बना ली है। कई सारी योजनाएं तैयार है। लेकिन केंद्र सरकार की ओर से फंड टाइम से नहीं मिल पा रही है। इस वजह से महाराष्ट्र में अभी तक उन पर काम शुरू नहीं हो पाया है।

शिवसेना की सबसे ज्यादा हिंदूवादी पार्टी की छवि रही है, लेकिन महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बाद क्या लोगों का विश्वास कम होता नहीं दिख रहा है?
इस सवाल पर उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी एनसीपी के साथ जा सकती है तो शिवसेना कांग्रेस के साथ क्यों नहीं जा सकती। आगे कहा कि बीजेपी ने सबसे पहले एनसीपी के साथ गठबंधन कर लिया। शिवसेना बीजेपी का रिश्ता लगभग 30 साल का था। लेकिन बीजेपी बार-बार हमें धोखा देती रही। तो हमने भी कांग्रेस के साथ हाथ मिलाकर यह बता दिया कि अगर बीजेपी ऐसा कर सकती है तो हम क्यों नहीं कर सकते। इससे हमारी कोई छवि खराब नहीं हुई है।
क्या शिवसेना आगे एनडीए के साथ आ सकती है?
इस पर उन्होंने कहा कि यह तो हमारे पार्टी के प्रमुख ही बता सकते हैं। शिवसेना की जो हिंदुत्व का मुद्दा है वह अभी तक खत्म नहीं हुआ है। दोनों ही पार्टियों का विचार अभी भी कुछ न कुछ हद तक समान ही है। आगे क्या होगा इसके बारे में हम कुछ नहीं कर सकते।

महाराष्ट्र में जो समस्याएं है उन पर आप की सरकार क्या काम कर रही है? इस सवाल पर उन्होंने कहा कि हम जहां पर भी काम करना चाहते हैं वहां बीजेपी की ओर से की जाती है कुछ न कुछ परेशानी जरूर खड़ी कि जाती है। केंद्र सरकार की ओर से आने वाली फंडिंग समय से नहीं मिल पाती। हम कह सकते हैं कि केंद्र सरकार हमें काम नहीं करने देना चाहती है। केंद्र और राज्य सरकार के आपसी तालमेल ठीक ना होने के कारण ही ऐसा हो रहा है।

सर आप की गिनती बड़े नेताओं में की जाती है तो क्या आप आगे जो चुनाव होगा उसमें आप मंत्री पद के दावेदार होंगे?
इस सवाल के जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि एक शिवसैनिक हूं। मैं आज जो कुछ भी हूं बालासाहेब की वजह से हूं। मंत्री पद को लेकर मैं अभी कुछ नहीं कह सकता। मैं एक आम परिवार से आता हूं। मुझे पार्टी की ओर से जो भी जिम्मेदारी मिलेगी मै उसे पूरी ईमानदारी से निभाने के लिए तैयार हूं। मैं पार्टी से कुछ नहीं मांगूंगा।
सर आपका फ्यूचर प्लान क्या है?
इस पर उन्होंने कहा कि मैं अपनी जनता के लिए काम करता चाहता हूं। मैं किसानों के लिए काम करना चाहता हूं। बेरोजगारों को काम मिले मैं ऐसा कुछ करना चाहूंगा, जिससे जनता का फायदा हो।

केंद्र सरकार की ओर से किसानों के लिए जो बिल आई है इस पर आप क्या कहेंगे?
इस पर हेमंत जी ने कहा कि जो किसानों के लिए केंद्र सरकार की ओर से जो बिल लाया गया है मैं उसका समर्थन करता हूं। क्योंकि पहले किसान अपना सामान बेचने के लिए स्वतंत्र नहीं थे। पहले बिचौलिए किसानों से सस्ते दामों में समान खरीदकर उन्हें महंगे दामों में बेचते थे। इस बिल से ये खत्म हो जाएगा। अब किसान अपना अनाज कहीं भी स्वतंत्र रूप से बेच सकता है। इस एक्ट में यह एक अच्छी बात है। इससे बीच के जो दलाल थे वह खत्म हो जाएंगे और किसानों को डायरेक्ट फायदा मिलेगा।

आपकी राजनीतिक सफलता के पीछे सबसे बड़ा योगदान किसका है?
इस पर हेमंत जी ने कहा कि मेरे राजनीतिक सफलता के पीछे मुझ पर जनता का विश्वास है जो मुझे राजनीति में सफल बनाया है। इसके अलावा हमारे पार्टी के कार्यकर्ताओं ने भी पूरा सहयोग दिया है। मेरे सफलता में इन लोगों का बहुत बड़ा योगदान रहा है।

 

Leave a Reply