नोएडा: मंगलवार को एक नौवीं क्लास में पढ़ने वाली एक 15 वर्षीय छात्रा द्वारा खुदकुशी करने का मामला सामने आया. सेक्टर 52 की रहने वाली मृतका इकिशा राघव दिल्ली के मयूर विहार स्थित एक नामी प्राइवेट स्कूल में नौंवी की छात्रा थी. शव को कब्जे में लेकर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है.

छात्रा के पिता का आरोप है कि शिक्षकों ने जान-बूझकर बेटी को परीक्षा में फेल कर दिया, जिससे आहत होकर बेटी ने यह कदम उठा लिया. पुलिस ने छात्रा के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. साथ ही पुलिस ने 2 आरोपी शिक्षकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

शाम करीब साढ़े चार बजे परिवार के लोग घर लौटे तो घटना की जानकारी हुई. छात्रा पिछले दिनों आए रिजल्ट में फेल हो गई थी. खुदकुशी को इस मामले से भी जोड़कर देखा जा रहा है. छात्रा का परिवार सेक्टर 52 में रहता है. उसके पिता कथक नर्तक हैं और नामी कथक गुरु के शिष्य हैं.

परिजनों ने स्कूल प्रबंधन पर छात्रा को परेशान करने सहित अन्य गंभीर आरोप लगाए हैं. बच्ची के पिता ने मीडिया को बताया कि बेटी ने उन्हें बताया था कि उसके सामाजिक विज्ञान के टीचर ने उसे गलत तरीके से छुआ था. मैं भी एक शिक्षक हूं इसलिए मैंने कहा कि वह ऐसा नहीं कर सकते, शायद यह गलती से हुआ हो.
पर उसने कहा था कि वह डरी हुई है और चाहे जितना अच्छा लिखे, वे लोग उसे फेल कर देंगे और वह सामाजिक विज्ञान में सच में फेल हो गई. उसे स्कूल ने मारा है. वहीं, दिल्ली के एलकॉन स्कूल की छात्रा की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने मंगलवार रात 1 बजे दो स्कूल टीचर राजीव सहगल व नीरज आनंद के अलावा प्रिंसिपल के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने व जान से मारने की धमकी देने की धारा में कोतवाली सेक्टर 24 में मामला दर्ज किया है.

जानकारी के मुताबिक,मंगलवार दोपहर परिवार के सभी लोग कहीं गए हुए थे. छात्रा घर पर अकेली थी. शाम करीब साढ़े चार बजे जब परिवार के लोग घर पहुंचे तो मकान का दरवाजा काफी प्रयास के बाद भी नहीं खुला. किसी प्रकार परिजनों ने मकान के अंदर प्रवेश किया तो देखा कि छात्रा रेलिंग से फंदे के सहारे लटकी हुई है. परिजनों ने उसे तत्काल फंदे से निकाला और सेक्टर 27 स्थित कैलाश अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

पुलिस के मुताबिक मार्च के पहले सप्ताह में रिजल्ट आया था, जिसमें वह एक विषय में फेल हो गई थी. परिजन स्कूल प्रबंधन पर छात्रा को परेशान करने और जानबूझ कर फेल करने का आरोप लगा रहे हैं, हालांकि अभी लिखित तहरीर नहीं दी गई है. छात्रा की एक पारिवारिक सहयोगी ने बताया कि छात्रा का भाई भी पहले इसी स्कूल में पढ़ता था, लेकिन दो वर्ष पहले वह निकल गया था.

आरोप है कि छात्रा को स्कूल के कुछ टीचरों द्वारा लगातार शारीरिक और मानसिक रूप से परेशान किया जा रहा था. परिजन ने स्कूल प्रबंधन पर उसे जानबूझ कर फेल करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि रिजल्ट आने पर उसकी कॉपी दिखाने के लिए भी परिजनों ने कहा था, लेकिन स्कूल प्रबंधन इसको लेकर तैयार नहीं हुआ था.

Leave a Reply