लखनऊ: उत्तर प्रदेश उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद भारतीय जनता पार्टी को एक और झटका लगा है. योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के दामाद डा. नवल किशोर ने समाजवादी पार्टी में शामिल हो गए हैं. यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नवल किशोर के सपा में शामिल होने की बात कही. इस मौके पर उन्होंने अखिलेश को भगवान बुद्ध की प्रतिमा भेंटकर उपचुनाव में जीत के लिए बधाई दी.

इस दौरान उपचुनाव में मिली जीत पर अखिलेश यादव ने कहा कि योगी सरकार के एक साल पूरा होने पर जनता ने उन्हें सॉलिड रिटर्न गिफ्ट दिया है. डॉ. नवल के सपा में शामिल होने के सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि ये हमारी पार्टी में आ रहे हैं लेकिन इन्हें हम यहां नहीं, सभा में ज्वाइन कराएंगे. कई अन्य कार्यकर्ताओं ने भी अखिलेश यादव को स्मृति चिह्न दिया.

अखिलेश यादव ने कहा कि इस जीत से सबसे बड़ा फायदा ये हुआ है कि वो (सीएम योगी) विकास की तरफ जाने लगे हैं. अब वो डिजिटल इंडिया की बात कर रहे हैं. विकास कार्यों में रुचि लेने लगे हैं. अखिलेश ने कहा कि बीटीसी अभ्यर्थियों की पूरी प्रक्रिया होने के बावजूद उन्हें नियुक्ति पत्र नहीं दिया. सिर्फ इसलिए कि सपा शासन में उनकी भर्तियां हुई थीं. कम से कम जो भर्तियां हो गई हैं, उन्हें तो सरकार नियुक्ति पत्र दे.

अखिलेश ने कहा कि भाजपा ने कुछ ज्यादा ही वादे जनता से किए. जो वादे किए, उन्हें पूरा नहीं किया. इसी का गुस्सा जनता में है. सपा अध्यक्ष ने कहा कि ईवीएम से वोटिंग हुई तो जनता का गुस्सा नहीं निकला. बैलेट पर ठप्पा मारने से गुस्सा निकलता है और लोकतंत्र में गुस्सा निकलना बहुत जरूरी है. अगर बैलेट से वोट पड़े होते तो हमारी जीत और बड़ी होती.

Leave a Reply