नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के साथ आने पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुटकी ली है.

 

दरअसल, आज गोरखपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए योगी जी ने कहा कि आज फिर दोनों (बीएसपी और एसपी) के गठबंधन की बातें सुनने में आ रही हैं, ऐसा लगता है जैसे कोई तूफान आता है तो सांप और छुछूंदर एक साथ मिलके खड़े हो जाते हैं. वैसे ही इनकी स्थिति आ चुकी है.

बता दें इस गठबंधन पर योगी ने कल कहा था कि ‘बेर-केर’ का मेल नहीं हो सकता. उन्होंने इसके लिए रहीम का दोहा पढ़ा ‘कहू रहीम कैसे निभाई, बेर केर के संग, वे डोलत रस आपने, उनके फाटत अंग.’ इस सवाल पर कि सपा और बसपा में से केर (केला) कौन है और बेर कौन, योगी ने किसी का नाम लिए बगैर कहा कि यह किसी से छुपा नहीं है कि गेस्ट हाउस कांड किसने किया और स्मारकों को ध्वस्त करने की चेतावनी कौन लोग दे रहे थे. अब आप लोग स्वयं अंदाजा लगाएं कि केर और बेर में कौन-कौन लोग हैं.

हालांकि बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने रविवार को उत्तर प्रदेश की गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा उपचुनाव में एसपी से गठबंधन की खबरों को गलत बताया. मगर राज्यसभा और प्रदेश विधान परिषद के आगामी चुनावों में एसपी और कांग्रेस के साथ सहयोग के दरवाजे खोल दिए.

मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा था कि बीएसपी ने कर्नाटक के अलावा अन्य किसी भी प्रदेश में किसी भी पार्टी के साथ समझौता या गठबंधन नहीं किया है. पिछले दो तीन दिन से मीडिया में खबरें प्रचारित की जा रही हैं कि उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव के लिए एसपी और बीएसपी का गठबंधन हो गया है या होने वाला है, जो गलत है.

उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा तथा अन्य किसी पार्टी के साथ जब भी लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन होगा, तो वह गुपचुप नहीं बल्कि खुलकर होगा

Leave a Reply